Real life story of woman:- FITTERS( बेड़ियां)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap


Note :- If anyone‌ wants to read this story in hindi then please scroll down.

       FITTERS - Part 2

Hello friends, welcome to my blog STORY OBSESSION.

https://amzn.to/3CNozHJ


 Today I have brought part-2 of the FITTERS (fetters) story.  Real life story of woman:- FITTERS- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap


 In part - 1,  I told about the difficulties and shackles that one has to face in the life before marriage and today in this part I will talk about the difficulties and shackles that come after marriage.  If you have not read that story then definitely read the link👉


https://www.storyobsession.com/2021/05/non-fiction-story-in-english-fetters.html


 This story is of a friend of mine who is very good at heart and perhaps this has become the fetters of her feet and also the weakness in the eyes of the people.


 Very close to me, loves me very much.  She is two years older than me and that's why she got married.  And today he also has a son who is very cute.  It is not known how the day passes by playing with him.  But this is one thing that we like to see in the life of a married girl, but there is only so much life, only this will be limited to the happiness of us girls?


 The big answer would be 'no'.


 Rekha's name is my friend's, we have known each other since childhood.  I am like her peak sister to her, in relationship there is a friend but love is like a sister.


 She is fair, but not very tall and that's why her parents were always worried about her marriage because in today's world everyone wants a tall and fair girl.  Then whether it is good or bad of heart, what difference will it make?  There is a world of show, truth is not sold here and every sak is aware of this.


 Rekha's hair is very long and also black which further enhances her beauty.  Her teeth are slightly protruding and that is why my mother believes that the girl who has teeth is lucky.


 There is a different perception of the earlier people, which is also a question in itself somewhere like: - If the teeth are out then lucky, if there is a dimple on the cheek, then the mother-in-law will agree a lot and if it is not so, then she will not agree.  Real life story of woman:- FITTERS- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap


 Moving forward in the story, the line was very calm and good in nature.  She is very less angry and talks well with everyone.  Fight is far from quarrel.  In one line, I am an obedient daughter.

https://www.storyobsession.com/2021/05/inspirational-story-in-english-and.html

 What comes first after marriage :-


 Today she is 24 years old and she got married a year ago.  After a few days of marriage, she got mixed up in her in-laws' house and made her in-laws her own world.  But, it is said that after all, the in-laws will remain in-laws, it can never take the place of the maternal uncle.


 Rekha had come to her in-laws' house as the elder daughter-in-law and that is why her duty increases as the elder daughter-in-law of the house.  But, just think, is it not a sin to grow up in the house, then why has it made it so big in our country that if you are older then you have no right to do any mistake, you do not have the right to go anywhere, you  All the responsibility has to be done properly.


 I was saying this because after marriage every new couple goes for a walk somewhere, some time is spent with each other so that they understand each other and life does not feel burden but looks beautiful.  But, Rekha and her husband were not allowed to do such a thing.  The reason was just like that, they were big and it was stopped saying that now the whole life is left to roam, then go away sometime.  "And this was the first boat".  Today it is two years of marriage and even today it is being heard that you should go away again.


 Where before marriage, a girl does not even like to ask her parents and just leaves by telling that she is going to roam with her friends, and so on.  At the same time, today she cannot do one thing on her own.


 Today we are a part of that society where our thinking is advanced and forward to show off.  We believe in educating girls, teaching them to touch heights, but thinking… thinking is the same as ours even today.  Daughter-in-law should not be thrown out of the house, she should not speak a lot, she has no right to express her opinion and many more….


 It is not like this in all the houses and it does not happen with everyone, but in most of the houses people still live with such thinking.


 I am also not saying that we should violate the words of elders or should not listen to them but..,


 We also need to see the other side of the coin.  When a girl leaves all her family and comes to an unknown house and there are thousand dreams in her eyes.  And how will it feel if those dreams are postponed by telling them to grow up or for some other reason.  Not everyone can bear this pain and not everyone can feel it, only those with whom he goes through can know.


 Well let's move on, Rekha's husband does not do any job.  Her father-in-law takes care of the household expenses.  And that's why her mother-in-law and sister-in-law say that when your husband does a job, then if you want to go for a walk or go anywhere...  It is a bit surprising that how can anyone do such a thing but.. it is true.


 Actually what happened was that Rekha's husband's marriage was fixed with Rekha's elder sister Ruby.  But his elder sister did not want to get married.  But there was pressure from her father that she had to get married, but Ruby did not agree even after putting a lot of pressure, but by then this word had spread to the whole family that the marriage was fixed and that is why Rekha was married to this boy, whom Rubin had.  There was going to be a wedding.


 How strange it is to say that we are educated and knowledgeable people, today we have reached the moon, but even today girls are kept in their own house with shackles.


 Rekha gets taunted for small things, she is discriminated against.  To show that the whole world knows that there is no shortage of anything in his house, but he has to give an account of everything.


 This story is of only one girl and there are so many girls in our country whose story is similar to the line and maybe even worse.


 The fetters after having children:-


 1. Right now the child is in dire need of the mother, how can he go anywhere now?


 2. The child should spend time with the mother, as everyone is worried except the mother...


 3. What did you say..😱 If you will do the work, he will also go out of the house and take care of the house, will take care of this small child of yours.. Like every responsibility belongs to the mother only.


 4. Assuming that even if you do the work, then what will you do if the children are taken out of hand…..  If you had to think about yourself, then what was the need to do children, as if by not having children, you have committed a bigger sin than you, after which the only option is to leave every dream.  etcetera.......


 Today Rekha is living with these shackles, but without complaining about life because she can only change her thinking and not that of others.

https://www.storyobsession.com/2021/05/inspirational-story-in-english-and.html

 We all know what it is and why it happens in our homes but no one wants to talk about it.  While on one hand we call the girl the form of a goddess, on the other hand we treat her like this and do not even do it and the matter does not stop till this, somewhere, the in-laws say to a lot of people that what is wrong in this, the girl's  This is the job, take care of your child and family.


 But we need to understand that a woman is also a human being above every relationship and she also has some desires, some dreams and everyone has equal right to dream and fulfill them.  No one can tell her what a woman should do or what she should do..Real life story of woman:- FITTERS (fetters)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap


 Conclusion :-


 1. We should let everyone decide his life for himself.


 2. If you cannot make someone happy, then at least do not give any trouble.


 3. Third but not the last, we have to first open these shackles in our homes, then we can expect from any other side and should not impose our will on anyone, otherwise its result can be bad.


 Well, friends, this was my thinking, what is your opinion, do share it with us, tell us by commenting what do you think about this shackles/ FITTER  PART-2 by Akanksha Kashyap


 And tell us how you all liked this story.


 If you like the story written by me, please share this your loved one's.  Thank you very much for your valuable time.


 Stay at home, stay safe.


 See you soon for the next story till then, goodbyehttps://amzn.to/3CNozHJ


                     बेड़ियां- पार्ट 2

 हेल्लो दोस्तों, मेरे ब्लॉग STORY OBSESSION पे आप सबका स्वागत है।

आज मै FITTERS (बेड़ियां) कहानी के पार्ट -2 को लेकर आई हूं। Real life story of woman:- FITTERS( बेड़ियां)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap  https://amzn.to/3CNozHJ

पार्ट 1 में मैंने शादी के पहले की ज़िन्दगी में क्या क्या मुश्किलें और बेड़ियों का सामना करना पड़ता है मैंने इसके बारे में बताया था और आज इस पार्ट मै शादी के बाद आने वाले मुश्किलों और बेड़ियों कि बात करूंगी । अगर आपने नहीं पढ़ा है उस कहानी को तो जरूर पढ़ी link👉https://www.storyobsession.com/2021/05/non-fiction-story-in-english-fetters.html

 ये कहानी मेरी एक सहेली की है जो दिल की बहुत अच्छी है और शायद यही उसकी पैरो की बेड़ियां बन गई  और लोगो कि नजरों में कमजोरी भी।। 

मेरे बहुत करीब है, मुझे बहुत प्यार करती है। मुझसे दो साल की बड़ी है और इसीलिए उसकी शादी हो गई।  और आज तो उसका एक बेटा भी है जो बहुत प्यारा है। दिन भर उसी के साथ खेलते हुए कैसे बीत जाता है पता ही नहीं चलता । पर ये तो एक बात हुई जो हमे देखना पसंद है एक शादी शुदा लड़की की  ज़िन्दगी में, पर की बस इतनी ही ज़िन्दगी है, यही तक सिमट जाती हम लड़कियों को खुशियां? 

जवाब बड़ा वाला ' ना ' ही होगा।

रेखा नाम है मेरी दोस्त का, बचपन से ही हम एक दूसरे को जानते है । मै उसके लिए उसकी चोटी बहन की तरह हूं, रिश्ते में तो दोस्त है पर प्यार बहन की तरह करती है। 

गोरी है, पर ज्यादा लंबी नहीं और इसीलिए उसके माता पिता हमेशा उसकी शादी को लेकर परेशान रहते थे क्यूंकि आज कि दुनिया में सबको लंबी और गोरी लड़की चाहिए होती है। फिर चाहे वो दिल की अच्छी हो या बुरी उससे क्या फर्क पड़ जाएगा । दिखावे की दुनिया है, यहां सच नहीं जूठ बिकता है और इस बात से हर एक सक्स रूबरू है। 

रेखा के बाल बहुत लंबे है और काले भी जो उसकी खूबसूरती को और निखारते है। उसके दांत थोड़े से बाहर निकले हुए है और इसीलिए मेरी मां का मानना है कि जिस लड़की के दात निकले होते है हो भाग्यशाली होते है। 

पहले के लोगो कि एक अलग ही धारणा है जो कहीं ना कहीं अपने आप में सवाल भी है जैसे :- अगर दात बाहर है तो भाग्यशाली है, गालो पे डिंपल है तो सास बहुत मानेगी और अगर ऐसा नहीं है तो नहीं मानेगी। Real life story of woman:- FITTERS( बेड़ियां)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap  

 कहानी में आगे बढ़ते है रेखा, स्वभाव की बहुत सांत और अच्छी थी। गुस्सा बहुत कम करती है और सभी से अच्छे से बात करती है। लड़ाई झगड़े से बहुत दूर रहती है । एक लाइन में बोलू तो एक आज्ञाकारी बेटी है।

शादी के बाद की पहली  बेड़ि  क्या आती है :-

आज वो 24 साल की है और उसकी शादी एक साल पहले हुई थी। शादी के कुछ दिन बाद ही ससुराल में वो सबसे घुल मिल गई और अपने ससुराल को ही अपनी दुनिया बना ली। लेकिन, कहते है ना कि आखिर ससुराल तो ससुराल ही रहेगा ये मायके को जगह कभी नहीं ले सकता ।

रेखा अपने ससुराल में बड़ी बहू के रूप में आई थी और इसीलिए घर की बड़ी बहू होने के नाते उसका फ़र्ज़ बढ़ जाता है।     लेकिन, ज़रा सोच के बताएं क्या घर का बड़ा होना कोई पाप तो नहीं फिर हमारे देश में इसे इतना बड़ा क्यों बना दिया है कि अगर तुम बड़े हो तो तुम्हे कोई गलती करने का हक़ नहीं है, तुम्हे कहीं जाने का हक़ नहीं है , तुम्हे सारी ज़िम्मेदारी सही तरीके से निभानी है। 

मै ऐसा इसलिए कह थी है क्युकी शादी के बाद हर नया जोड़ा कहीं घूमने जाता है, कुछ वक्त बीतता है एक दूसरे के साथ ताकि एक दूसरे को समझे और ज़िन्दगी बोझ ना लगे बल्कि खूबसूरत लगे।।  लेकिन, ऐसा रेखा ओर उसके पति को करने की इजाज़त नहीं मिली । वजह बस इतनी सी थी थी ये बड़े थे और ये कह के रोक दिया गया कि अभी तो सारी उम्र पड़ी है घूमने के लिए, फिर कभी चले जाना। " और ये पहली बेड़ि थी "।।  आज शादी के दो साल है गए ओर आज भी यही सुनने को मिल रहा है कि फिर कभी चले जाना।। 

जहां शादी से पहले एक लड़की अपने मां पापा से पूछना भी पसंद नहीं करती बस बता कर निकल जाती है कि वो घूमने जा रही है अपने दोस्तो के साथ, और भी वगैरह वगैरह...।। वहीं आज अपनी मर्जी से एक काम नहीं कर सकती ।

आज हम उस समाज का हिस्सा है जहां दिखान के लिए तो हमारी सोच एडवांस और फॉरवर्ड है। हम लड़कियों को पढ़ाने में विश्वास करते है, उन्हें उचाइयों को छूना सीखा रहे है पर सोच...सोच आज भी हमारी वैसी की वैसी ही है।। घर से  बहू को नहीं निकालना चाहिए, उन्हें जायदा बोलना नहीं चाहिए, उन्हें अपनी बात रखने का कोई हक़ नहीं है और भी बहुत कुछ..।। 

सारे घरों मै ऐसा नहीं है और ना ही सभी के साथ ऐसा होता है पर ज्यादातर घरों में आज भी ऐसी सोच के लोग रहते है।

मै ये भी नहीं कह रही की बड़ों की बातो का उलघन करना करना चाहिए या उनकी कोई बात नहीं माननी चाहिए पर..,  

हमे सिक्के के दूसरे पहलू को देखने की भी ज़रूरत है। जब एक लड़की अपने सारे घर वालो को छोड़ कर एक अंजान घर में आती है और आंखों में हजार सपने होते है। और उन सपनों को बड़े होने फ़र्ज़ बता कर या कुछ और वजह से टाल दिया जाए तो कैसा लगेगा । ये तकलीफ हर कोई नहीं सह सकता और ना है हर कोई महसूस कर सकता है, ये सिर्फ वही जान सकता है जिसके साथ वो गुजरता है।।

खैर आगे बढ़ते है,रेखा के पति कोई नौकरी नहीं करते । उसके ससुर जी घर का खर्च उठाते है। और इसीलिए उसकी सास और ननद का कहना है कि जब तुम्हारे पति नौकरी करेंगे तब जाना  घूमने या कहीं भी जाना हो तो..।। थोड़ी हैरानी होती है कि आखिर ऐसे कैसे कोई कर सकता है पर.. ये सच है।

दरअसल हुआ ये था कि रेखा की बड़ी बहन रूबी से रेखा के पति की शादी तय होती थी। पर उसकी बड़ी बहन शादी नहीं करना चाहती थी। पर उसके पिता का दवाब था कि शादी करनी ही है पर बहुत दबाव डालने पर भी रूबी नहीं मानी लेकिन तब तक ये बात सारे घर वालो में फैल गई थी कि शादी तय हो चुकी है और इसीलिए रेखा की शादी इस लड़के से हुई जिससे रूबिं की शादी होने वाली थी।

कितनी अजीब बात है कहने को तो हम पढ़े लिखे और ज्ञानी लोग है, आज चांद पे पहुंच गए हैं पर लड़कियों को आज भी उन्हीं के घर में बेड़ियों से बाध कर रखा जाता है। 

छोटी छोटी चीजों के लिए ताने मिलते है रेखा को, भेदभाव किया जाता है उसके साथ। दिखाने के लिए लिए पूरी दुनिया जानती है कि उसके घर में किसी चीज़ की कमी नहीं है पर उसे हर चीज़ का हिसाब देना पड़ता है। 

ये कहानी सिर्फ एक लड़की की है और हमारे देश मे ऐसी ना जाने कितनी लड़कियां है जिसकी कहानी रेखा से मिलती जुलती है और शायद इससे भी जायदा बुरा। 

बच्चे होने के बाद की बेड़ियां :-

 1. अभी तो बच्चे को मां की सख्त जरूरत है अभी कैसे कहीं जा सकती है।

2. बच्चे को मां के साथ वक्त बिताना चाहिए, जैसे मां को छोड़ कर सभी को चिंता हो रही है..।

3. क्या कह थी हो..😱 काम करोगी वो भी घर के बाहर जा कर और घर को को संभालेगा, तुम्हारे इस छोटे से बच्चे को को संभालेगा.।।जैसे हर ज़िम्मेदारी सिर्फ मां की ही होती है।

4. मान लिया की काम कर भी लो, फिर अगर बच्चे हाथ से निकाल गए तो क्या करोगी..।। अपने बारे में हीं सोचना था तो बच्चे करने की क्या ज़रूरत थी, जैसे बच्चे ना होकर को से बड़ा पाप कर दिया हो जिसके होने के बाद हर सपने को छोड़ना ही विकल्प है।। वगैरह वगैरह........ 

आज रेखा अपनी इन्हीं बेड़ियों के साथ जी रही है पर ज़िन्दगी से कोई शिकायत किय बिना क्युकी वो सिर्फ अपनी सोच बदल सकती है दूसरो की नहीं..।।

हम जानते तो सभी है की ये क्या है और क्यों होता है हमारे घरों में पर कोई इसके बारे में बात नहीं करना चाहता। हम जहां एक तरफ लड़की को देवी का रूप कहते है वहीं दूसरी तरफ उसके साथ ऐसा सुलूक करते है और उफ़ तक नहीं करते और बात यही तक नहीं रुकती कहीं कहीं तो ससुराल वाले बहुत सान से कहते है कि इसमें गलत क्या है, लड़की का तो काम ही ये हैं, अपने बच्चे और परिवार का ख्याल रखना।।

 पर हमे ये समझने की ज़रूरत है कि एक औरत हर रिश्ते से ऊपर एक इंसान भी है ओर उसकी भी कुछ ख्वाहिशें है,कुछ सपने है ओर सपने देखने का और उसको पूरा करने का हक़ सबको बराबर है।। कोई एक उसको नहीं बता सकता की एक औरत क्या करे या क्या करना चाहिए।।Real life story of woman:- FITTERS( बेड़ियां)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap  

निष्कर्ष :-

1. हमें हर किसी को उसकी ज़िन्दगी का फैसला खुद लेने देना चाहिए।

2. किसी को खुशी नहीं से सकते तो कम से कम कोई तकलीफ तो ना दे।

3. तीसरा पर आखरी नहीं, हमे सबसे पहले अपने घरों में इस बेड़ियों को खोलना होगा फिर किसी ओर से अपेक्षा कर सकते है ओर अपनी मर्जी किसी पे थोपना नहीं चाहिए नहीं तो इसका अंजाम बुरा भी हो सकता है।।

खैर, दोस्तो तो ये तो थी मेरी  सोच, आपकी क्या राय है ये हमसे  ज़रुर साझा कीजिए, हमे comments करके बताए की आप क्या सोचते है इस बेड़ियों के बारे में ।।Real life story of woman:- FITTERS( बेड़ियां)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap  

और आपको सभी को ये कहानी कैसी लगी ये हमे ज़रूर बताए।

अगर आपको मेरी लिखी कहानी पसंद आती हो तो please share this your loved one's.  आपके कीमती समय के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

घर में राहिय, सुरक्षित रहिए।।

मिलते है जल्दी ही अगली कहानी मै तब तक के लिए , goodbyehttps://amzn.to/3CNozHJ













Real life story of woman:- FITTERS( बेड़ियां)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap


Note :- If anyone‌ wants to read this story in hindi then please scroll down.

       FITTERS - Part 2

Hello friends, welcome to my blog STORY OBSESSION.

https://amzn.to/3CNozHJ


 Today I have brought part-2 of the FITTERS (fetters) story.  Real life story of woman:- FITTERS- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap


 In part - 1,  I told about the difficulties and shackles that one has to face in the life before marriage and today in this part I will talk about the difficulties and shackles that come after marriage.  If you have not read that story then definitely read the link👉


https://www.storyobsession.com/2021/05/non-fiction-story-in-english-fetters.html


 This story is of a friend of mine who is very good at heart and perhaps this has become the fetters of her feet and also the weakness in the eyes of the people.


 Very close to me, loves me very much.  She is two years older than me and that's why she got married.  And today he also has a son who is very cute.  It is not known how the day passes by playing with him.  But this is one thing that we like to see in the life of a married girl, but there is only so much life, only this will be limited to the happiness of us girls?


 The big answer would be 'no'.


 Rekha's name is my friend's, we have known each other since childhood.  I am like her peak sister to her, in relationship there is a friend but love is like a sister.


 She is fair, but not very tall and that's why her parents were always worried about her marriage because in today's world everyone wants a tall and fair girl.  Then whether it is good or bad of heart, what difference will it make?  There is a world of show, truth is not sold here and every sak is aware of this.


 Rekha's hair is very long and also black which further enhances her beauty.  Her teeth are slightly protruding and that is why my mother believes that the girl who has teeth is lucky.


 There is a different perception of the earlier people, which is also a question in itself somewhere like: - If the teeth are out then lucky, if there is a dimple on the cheek, then the mother-in-law will agree a lot and if it is not so, then she will not agree.  Real life story of woman:- FITTERS- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap


 Moving forward in the story, the line was very calm and good in nature.  She is very less angry and talks well with everyone.  Fight is far from quarrel.  In one line, I am an obedient daughter.

https://www.storyobsession.com/2021/05/inspirational-story-in-english-and.html

 What comes first after marriage :-


 Today she is 24 years old and she got married a year ago.  After a few days of marriage, she got mixed up in her in-laws' house and made her in-laws her own world.  But, it is said that after all, the in-laws will remain in-laws, it can never take the place of the maternal uncle.


 Rekha had come to her in-laws' house as the elder daughter-in-law and that is why her duty increases as the elder daughter-in-law of the house.  But, just think, is it not a sin to grow up in the house, then why has it made it so big in our country that if you are older then you have no right to do any mistake, you do not have the right to go anywhere, you  All the responsibility has to be done properly.


 I was saying this because after marriage every new couple goes for a walk somewhere, some time is spent with each other so that they understand each other and life does not feel burden but looks beautiful.  But, Rekha and her husband were not allowed to do such a thing.  The reason was just like that, they were big and it was stopped saying that now the whole life is left to roam, then go away sometime.  "And this was the first boat".  Today it is two years of marriage and even today it is being heard that you should go away again.


 Where before marriage, a girl does not even like to ask her parents and just leaves by telling that she is going to roam with her friends, and so on.  At the same time, today she cannot do one thing on her own.


 Today we are a part of that society where our thinking is advanced and forward to show off.  We believe in educating girls, teaching them to touch heights, but thinking… thinking is the same as ours even today.  Daughter-in-law should not be thrown out of the house, she should not speak a lot, she has no right to express her opinion and many more….


 It is not like this in all the houses and it does not happen with everyone, but in most of the houses people still live with such thinking.


 I am also not saying that we should violate the words of elders or should not listen to them but..,


 We also need to see the other side of the coin.  When a girl leaves all her family and comes to an unknown house and there are thousand dreams in her eyes.  And how will it feel if those dreams are postponed by telling them to grow up or for some other reason.  Not everyone can bear this pain and not everyone can feel it, only those with whom he goes through can know.


 Well let's move on, Rekha's husband does not do any job.  Her father-in-law takes care of the household expenses.  And that's why her mother-in-law and sister-in-law say that when your husband does a job, then if you want to go for a walk or go anywhere...  It is a bit surprising that how can anyone do such a thing but.. it is true.


 Actually what happened was that Rekha's husband's marriage was fixed with Rekha's elder sister Ruby.  But his elder sister did not want to get married.  But there was pressure from her father that she had to get married, but Ruby did not agree even after putting a lot of pressure, but by then this word had spread to the whole family that the marriage was fixed and that is why Rekha was married to this boy, whom Rubin had.  There was going to be a wedding.


 How strange it is to say that we are educated and knowledgeable people, today we have reached the moon, but even today girls are kept in their own house with shackles.


 Rekha gets taunted for small things, she is discriminated against.  To show that the whole world knows that there is no shortage of anything in his house, but he has to give an account of everything.


 This story is of only one girl and there are so many girls in our country whose story is similar to the line and maybe even worse.


 The fetters after having children:-


 1. Right now the child is in dire need of the mother, how can he go anywhere now?


 2. The child should spend time with the mother, as everyone is worried except the mother...


 3. What did you say..😱 If you will do the work, he will also go out of the house and take care of the house, will take care of this small child of yours.. Like every responsibility belongs to the mother only.


 4. Assuming that even if you do the work, then what will you do if the children are taken out of hand…..  If you had to think about yourself, then what was the need to do children, as if by not having children, you have committed a bigger sin than you, after which the only option is to leave every dream.  etcetera.......


 Today Rekha is living with these shackles, but without complaining about life because she can only change her thinking and not that of others.

https://www.storyobsession.com/2021/05/inspirational-story-in-english-and.html

 We all know what it is and why it happens in our homes but no one wants to talk about it.  While on one hand we call the girl the form of a goddess, on the other hand we treat her like this and do not even do it and the matter does not stop till this, somewhere, the in-laws say to a lot of people that what is wrong in this, the girl's  This is the job, take care of your child and family.


 But we need to understand that a woman is also a human being above every relationship and she also has some desires, some dreams and everyone has equal right to dream and fulfill them.  No one can tell her what a woman should do or what she should do..Real life story of woman:- FITTERS (fetters)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap


 Conclusion :-


 1. We should let everyone decide his life for himself.


 2. If you cannot make someone happy, then at least do not give any trouble.


 3. Third but not the last, we have to first open these shackles in our homes, then we can expect from any other side and should not impose our will on anyone, otherwise its result can be bad.


 Well, friends, this was my thinking, what is your opinion, do share it with us, tell us by commenting what do you think about this shackles/ FITTER  PART-2 by Akanksha Kashyap


 And tell us how you all liked this story.


 If you like the story written by me, please share this your loved one's.  Thank you very much for your valuable time.


 Stay at home, stay safe.


 See you soon for the next story till then, goodbyehttps://amzn.to/3CNozHJ


                     बेड़ियां- पार्ट 2

 हेल्लो दोस्तों, मेरे ब्लॉग STORY OBSESSION पे आप सबका स्वागत है।

आज मै FITTERS (बेड़ियां) कहानी के पार्ट -2 को लेकर आई हूं। Real life story of woman:- FITTERS( बेड़ियां)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap  https://amzn.to/3CNozHJ

पार्ट 1 में मैंने शादी के पहले की ज़िन्दगी में क्या क्या मुश्किलें और बेड़ियों का सामना करना पड़ता है मैंने इसके बारे में बताया था और आज इस पार्ट मै शादी के बाद आने वाले मुश्किलों और बेड़ियों कि बात करूंगी । अगर आपने नहीं पढ़ा है उस कहानी को तो जरूर पढ़ी link👉https://www.storyobsession.com/2021/05/non-fiction-story-in-english-fetters.html

 ये कहानी मेरी एक सहेली की है जो दिल की बहुत अच्छी है और शायद यही उसकी पैरो की बेड़ियां बन गई  और लोगो कि नजरों में कमजोरी भी।। 

मेरे बहुत करीब है, मुझे बहुत प्यार करती है। मुझसे दो साल की बड़ी है और इसीलिए उसकी शादी हो गई।  और आज तो उसका एक बेटा भी है जो बहुत प्यारा है। दिन भर उसी के साथ खेलते हुए कैसे बीत जाता है पता ही नहीं चलता । पर ये तो एक बात हुई जो हमे देखना पसंद है एक शादी शुदा लड़की की  ज़िन्दगी में, पर की बस इतनी ही ज़िन्दगी है, यही तक सिमट जाती हम लड़कियों को खुशियां? 

जवाब बड़ा वाला ' ना ' ही होगा।

रेखा नाम है मेरी दोस्त का, बचपन से ही हम एक दूसरे को जानते है । मै उसके लिए उसकी चोटी बहन की तरह हूं, रिश्ते में तो दोस्त है पर प्यार बहन की तरह करती है। 

गोरी है, पर ज्यादा लंबी नहीं और इसीलिए उसके माता पिता हमेशा उसकी शादी को लेकर परेशान रहते थे क्यूंकि आज कि दुनिया में सबको लंबी और गोरी लड़की चाहिए होती है। फिर चाहे वो दिल की अच्छी हो या बुरी उससे क्या फर्क पड़ जाएगा । दिखावे की दुनिया है, यहां सच नहीं जूठ बिकता है और इस बात से हर एक सक्स रूबरू है। 

रेखा के बाल बहुत लंबे है और काले भी जो उसकी खूबसूरती को और निखारते है। उसके दांत थोड़े से बाहर निकले हुए है और इसीलिए मेरी मां का मानना है कि जिस लड़की के दात निकले होते है हो भाग्यशाली होते है। 

पहले के लोगो कि एक अलग ही धारणा है जो कहीं ना कहीं अपने आप में सवाल भी है जैसे :- अगर दात बाहर है तो भाग्यशाली है, गालो पे डिंपल है तो सास बहुत मानेगी और अगर ऐसा नहीं है तो नहीं मानेगी। Real life story of woman:- FITTERS( बेड़ियां)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap  

 कहानी में आगे बढ़ते है रेखा, स्वभाव की बहुत सांत और अच्छी थी। गुस्सा बहुत कम करती है और सभी से अच्छे से बात करती है। लड़ाई झगड़े से बहुत दूर रहती है । एक लाइन में बोलू तो एक आज्ञाकारी बेटी है।

शादी के बाद की पहली  बेड़ि  क्या आती है :-

आज वो 24 साल की है और उसकी शादी एक साल पहले हुई थी। शादी के कुछ दिन बाद ही ससुराल में वो सबसे घुल मिल गई और अपने ससुराल को ही अपनी दुनिया बना ली। लेकिन, कहते है ना कि आखिर ससुराल तो ससुराल ही रहेगा ये मायके को जगह कभी नहीं ले सकता ।

रेखा अपने ससुराल में बड़ी बहू के रूप में आई थी और इसीलिए घर की बड़ी बहू होने के नाते उसका फ़र्ज़ बढ़ जाता है।     लेकिन, ज़रा सोच के बताएं क्या घर का बड़ा होना कोई पाप तो नहीं फिर हमारे देश में इसे इतना बड़ा क्यों बना दिया है कि अगर तुम बड़े हो तो तुम्हे कोई गलती करने का हक़ नहीं है, तुम्हे कहीं जाने का हक़ नहीं है , तुम्हे सारी ज़िम्मेदारी सही तरीके से निभानी है। 

मै ऐसा इसलिए कह थी है क्युकी शादी के बाद हर नया जोड़ा कहीं घूमने जाता है, कुछ वक्त बीतता है एक दूसरे के साथ ताकि एक दूसरे को समझे और ज़िन्दगी बोझ ना लगे बल्कि खूबसूरत लगे।।  लेकिन, ऐसा रेखा ओर उसके पति को करने की इजाज़त नहीं मिली । वजह बस इतनी सी थी थी ये बड़े थे और ये कह के रोक दिया गया कि अभी तो सारी उम्र पड़ी है घूमने के लिए, फिर कभी चले जाना। " और ये पहली बेड़ि थी "।।  आज शादी के दो साल है गए ओर आज भी यही सुनने को मिल रहा है कि फिर कभी चले जाना।। 

जहां शादी से पहले एक लड़की अपने मां पापा से पूछना भी पसंद नहीं करती बस बता कर निकल जाती है कि वो घूमने जा रही है अपने दोस्तो के साथ, और भी वगैरह वगैरह...।। वहीं आज अपनी मर्जी से एक काम नहीं कर सकती ।

आज हम उस समाज का हिस्सा है जहां दिखान के लिए तो हमारी सोच एडवांस और फॉरवर्ड है। हम लड़कियों को पढ़ाने में विश्वास करते है, उन्हें उचाइयों को छूना सीखा रहे है पर सोच...सोच आज भी हमारी वैसी की वैसी ही है।। घर से  बहू को नहीं निकालना चाहिए, उन्हें जायदा बोलना नहीं चाहिए, उन्हें अपनी बात रखने का कोई हक़ नहीं है और भी बहुत कुछ..।। 

सारे घरों मै ऐसा नहीं है और ना ही सभी के साथ ऐसा होता है पर ज्यादातर घरों में आज भी ऐसी सोच के लोग रहते है।

मै ये भी नहीं कह रही की बड़ों की बातो का उलघन करना करना चाहिए या उनकी कोई बात नहीं माननी चाहिए पर..,  

हमे सिक्के के दूसरे पहलू को देखने की भी ज़रूरत है। जब एक लड़की अपने सारे घर वालो को छोड़ कर एक अंजान घर में आती है और आंखों में हजार सपने होते है। और उन सपनों को बड़े होने फ़र्ज़ बता कर या कुछ और वजह से टाल दिया जाए तो कैसा लगेगा । ये तकलीफ हर कोई नहीं सह सकता और ना है हर कोई महसूस कर सकता है, ये सिर्फ वही जान सकता है जिसके साथ वो गुजरता है।।

खैर आगे बढ़ते है,रेखा के पति कोई नौकरी नहीं करते । उसके ससुर जी घर का खर्च उठाते है। और इसीलिए उसकी सास और ननद का कहना है कि जब तुम्हारे पति नौकरी करेंगे तब जाना  घूमने या कहीं भी जाना हो तो..।। थोड़ी हैरानी होती है कि आखिर ऐसे कैसे कोई कर सकता है पर.. ये सच है।

दरअसल हुआ ये था कि रेखा की बड़ी बहन रूबी से रेखा के पति की शादी तय होती थी। पर उसकी बड़ी बहन शादी नहीं करना चाहती थी। पर उसके पिता का दवाब था कि शादी करनी ही है पर बहुत दबाव डालने पर भी रूबी नहीं मानी लेकिन तब तक ये बात सारे घर वालो में फैल गई थी कि शादी तय हो चुकी है और इसीलिए रेखा की शादी इस लड़के से हुई जिससे रूबिं की शादी होने वाली थी।

कितनी अजीब बात है कहने को तो हम पढ़े लिखे और ज्ञानी लोग है, आज चांद पे पहुंच गए हैं पर लड़कियों को आज भी उन्हीं के घर में बेड़ियों से बाध कर रखा जाता है। 

छोटी छोटी चीजों के लिए ताने मिलते है रेखा को, भेदभाव किया जाता है उसके साथ। दिखाने के लिए लिए पूरी दुनिया जानती है कि उसके घर में किसी चीज़ की कमी नहीं है पर उसे हर चीज़ का हिसाब देना पड़ता है। 

ये कहानी सिर्फ एक लड़की की है और हमारे देश मे ऐसी ना जाने कितनी लड़कियां है जिसकी कहानी रेखा से मिलती जुलती है और शायद इससे भी जायदा बुरा। 

बच्चे होने के बाद की बेड़ियां :-

 1. अभी तो बच्चे को मां की सख्त जरूरत है अभी कैसे कहीं जा सकती है।

2. बच्चे को मां के साथ वक्त बिताना चाहिए, जैसे मां को छोड़ कर सभी को चिंता हो रही है..।

3. क्या कह थी हो..😱 काम करोगी वो भी घर के बाहर जा कर और घर को को संभालेगा, तुम्हारे इस छोटे से बच्चे को को संभालेगा.।।जैसे हर ज़िम्मेदारी सिर्फ मां की ही होती है।

4. मान लिया की काम कर भी लो, फिर अगर बच्चे हाथ से निकाल गए तो क्या करोगी..।। अपने बारे में हीं सोचना था तो बच्चे करने की क्या ज़रूरत थी, जैसे बच्चे ना होकर को से बड़ा पाप कर दिया हो जिसके होने के बाद हर सपने को छोड़ना ही विकल्प है।। वगैरह वगैरह........ 

आज रेखा अपनी इन्हीं बेड़ियों के साथ जी रही है पर ज़िन्दगी से कोई शिकायत किय बिना क्युकी वो सिर्फ अपनी सोच बदल सकती है दूसरो की नहीं..।।

हम जानते तो सभी है की ये क्या है और क्यों होता है हमारे घरों में पर कोई इसके बारे में बात नहीं करना चाहता। हम जहां एक तरफ लड़की को देवी का रूप कहते है वहीं दूसरी तरफ उसके साथ ऐसा सुलूक करते है और उफ़ तक नहीं करते और बात यही तक नहीं रुकती कहीं कहीं तो ससुराल वाले बहुत सान से कहते है कि इसमें गलत क्या है, लड़की का तो काम ही ये हैं, अपने बच्चे और परिवार का ख्याल रखना।।

 पर हमे ये समझने की ज़रूरत है कि एक औरत हर रिश्ते से ऊपर एक इंसान भी है ओर उसकी भी कुछ ख्वाहिशें है,कुछ सपने है ओर सपने देखने का और उसको पूरा करने का हक़ सबको बराबर है।। कोई एक उसको नहीं बता सकता की एक औरत क्या करे या क्या करना चाहिए।।Real life story of woman:- FITTERS( बेड़ियां)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap  

निष्कर्ष :-

1. हमें हर किसी को उसकी ज़िन्दगी का फैसला खुद लेने देना चाहिए।

2. किसी को खुशी नहीं से सकते तो कम से कम कोई तकलीफ तो ना दे।

3. तीसरा पर आखरी नहीं, हमे सबसे पहले अपने घरों में इस बेड़ियों को खोलना होगा फिर किसी ओर से अपेक्षा कर सकते है ओर अपनी मर्जी किसी पे थोपना नहीं चाहिए नहीं तो इसका अंजाम बुरा भी हो सकता है।।

खैर, दोस्तो तो ये तो थी मेरी  सोच, आपकी क्या राय है ये हमसे  ज़रुर साझा कीजिए, हमे comments करके बताए की आप क्या सोचते है इस बेड़ियों के बारे में ।।Real life story of woman:- FITTERS( बेड़ियां)- A Truth PART-2 by Akanksha Kashyap  

और आपको सभी को ये कहानी कैसी लगी ये हमे ज़रूर बताए।

अगर आपको मेरी लिखी कहानी पसंद आती हो तो please share this your loved one's.  आपके कीमती समय के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

घर में राहिय, सुरक्षित रहिए।।

मिलते है जल्दी ही अगली कहानी मै तब तक के लिए , goodbyehttps://amzn.to/3CNozHJ













4 टिप्पणियाँ

If u have any comments or feedback,let me know.

एक टिप्पणी भेजें

If u have any comments or feedback,let me know.

और नया पुराने