Friendship Story / Sad friendship story in Hindi – 0 Dosti ka break-up 💔

 

Friendship Story / Sad friendship story in Hindi/English - Dosti ka break-up 💔

 

Friendship Story / Sad friendship story in Hindi/English  – Dosti ka break-up 💔 

हेलो दोस्तों, कैसे है आप सब। स्वागत है आप सभी का मेरे ब्लॉग STORY OBSESSION पर। आज मैं फिर से आ गई हूं एक नई कहानी के साथ एक नई सोच के साथ। आशा है आप सभी को पसंद आएगी।https://www.storyobsession.com/2021/07/motivational-story-for-students-in.html

अगर आपको मेरी कहानी सुनने का मन हो तो आप मेरे चैनल पर जा कर सुन सकते है नाम चैनल का है..👉👉 Story obsession by Akku 👇👇

 https://youtu.be/ykDgnw_cpJc

उस कहनी का लिंक उपर 👆👆दिया है। अगर अच्छा लगे तो मेरे चैनल को subscribe कर दे।

आज की कहानी दोस्ती पे होने वाली है। अगर ये कहानी पढ़ने के बाद आपको कुछ भी कहना हो तो मुझे कमेंट कर बता सकते है। Friendship Story / Sad friendship story in Hindi/English  – Dosti ka break-up 💔 

तो शुरू करते है..।

इस दुनिया में हम न  जाने कितने लोगो से मिलते हैं। कितने लोगो के साथ बैठते है, हंसते हैं। हमे हर रिश्ता बना बनाया मिलता है। मां, पापा, भाई, बहन, चाचा, चाची, मामा, मामी, और जितने भी रिश्ते है।

लेकिन, एक रिश्ता ऐसा भी है जिसे हम खुद चुनते है। जिसको हम अपनी खुशी समझ कर चुनते है। जीने साथ हम रहना चाहते हैं। और वो रिश्ता है ‘ दोस्ती ‘ का।

दोस्ती.. जो हर रिश्ते से अलग है। जो हर रिश्ते से अनमोल है।जिसकी कीमत नही लगाई जा सकती और न ही किसी को दिया जा सकता है।

आज की ये कहानी है एक ऐसी ही दोस्ती की लेकिन, जैसे कहते है ना हम की जो जितना करीब होता है उनके साथ अगर झगड़े हो तो वो अलग भी उसी तरह से होते है।

इस कहानी में दोस्ती है, खुशियां है, एक दूसरे के लिए इज्जत और प्यार है पर..ट्विस्ट है को इस दोस्ती की हैपी एंडिंग नही बल्कि दुख भरा खात्मा होता है।Friendship Story / Sad friendship story in Hindi/English  – Dosti ka break-up 💔   https://www.storyobsession.com/2021/05/inspirational-story-in-english-and.html

ये कहानी है मेरी दोस्ती की जो अब हम अनजान है।

दोस्ती का ब्रेक – अप /Sad moral friendship story

एक दिन मैंने मोटी को व्हाट्स ऐप किया और कह दिया की देख यार अब पहले जैसा हमारे बीच दोस्ती नहीं रह गई। तो तू घर पर मत आना मुझसे मिलने।

मोटी.. वेट में थोड़ा जायदा थी वो इसीलिए मैं उसे मोटी कह कर बुलाती थी। और उसके मुकाबले पतली तो वो मुझे स्केलेटों बॉडी कहती।

चार साल पहले मैंने जब उसे पहली बार देखा था तो मेरे ऊपर एक अच्छा इंप्रेशन पड़ा। मुझे आज भी याद है की इस दिन उसने क्या पहना था। उस दिन वो ऑरेंज कलर का सूट और काले रंग का लेगिस पहना था।

इस कॉम्बिनेशन में वो काफी अच्छी लग रही थी। और दूसरी तरफ मैने अपने सर के मुंह से सुना की वो काफी दूर सआती है पढ़ने। ये बाते मुझे भी काफी प्रभावित कर गई।

और उस दिन मैंने उसे एप्रोच किया। मैं उससे जा कर बात की। हम बायोलॉजी एक हीं कोचिंग में पढ़ते थे। और दूसरे कोचिंग सेंटर भी साथ में ही जाते थे तो बाते होनी शुरू हो गई।Friendship Story / Sad friendship story in Hindi/English  – Dosti ka break-up 💔 

धीरे धीरे अच्छी बाते होनी शुरू हो गई। हम साथ ने कोचिंग जाते, हंसते, खाना खाते और दुसरो की टांग खिंचाई भी करते। मैने एक अच्छे दोस्त की ख्वाहिश हमेशा से की और अब बात करते करते ऐसा लगने लगा था की शायद वो मेरी अच्छी दोस्त बन गई है।https://www.storyobsession.com/2021/04/suspense-and-thriller-story-in-english.html

और अगर नही भी बनी तो बन जाएगी। उसमे वो खूबी है जो मुझे समझ सकती हैं। पर वो हमेशा अपने ही धुन में सवार रहती थी। और मेरे साथ जो भी टाइम बिताती मुझे लगता की हम अब एक अच्छे दोस्त बन सकते हैं।

ना जाने  कितनी टाइम एक दूसरे को सपोर्ट किया था। मेरे पैसे को वो ले लेती थी और मैं उसके पैसे खर्च कर देती थी। सारे लोगो को लगता था की हमारी दोस्ती कभी नही टूटेगी। और हम हमेशा साथ रहेंगे।

पर वो कहते है ना रिश्ता हो या दिल आखिर टूट हीं जाता है। और वैसे भी जिस दोस्ती को मैं स्पेशल समझ रही थी वो तो कभी स्पेशल था ही नही। मैने उसको जायदा तवाजो दिया था उसने नही।

मैं भी उसके लिए एक कैजुअल दोस्तब्थी जैसे की और सब थे। वैसे तो दोस्त हो या कोई और रिश्ता झगड़े तो होते ही है। और हमारे बीच भी काफी बार हुआ पर कभी भी सीरियस वाला नही।

हम कभी बुरा नही मानते थे। लड़ाई होती थी फिर सुलझ भी जाति थी। पर.. एक बार किसी बात को लेकर हमारे बीच गलत फहमी हो गई और हम अचानक से बात करना बंद कर दिए।

दोनो की गलती थी और अब रिश्ता पहले जैसा नहीं रह गई थी और ये बात दोनो को ही समझ  आ गई थी। पर बस दोस्ती का लिहाज किए जा रहे थे और थोड़ी बहुत बातचीत होती थी।

लेकिन, ये और कब तक चलता। हम दोनो ही इस बात को इग्नोर कर रहे थे की अब सब ठीक नही है। इसी बीच रखी का दिन आ गया। मैं और मेरी दोस्त जब अच्छी दोस्त थे तो मैं उसको हमेशा रखी बांधते थे।

उस दिन भी मैने हमेशा की तरह उसकी पसंद की रखी ली.. लेकिन वो नही आ सकी क्योंकि उसका घर काफी दूर था मेरे घर से। मैने भी जायदा फोर्स नही किया।

फिर एक दिन वो मेरे घर के पास ही आई हुई थी तो उसने कॉल किया और कहा की घर आ रही हुं मैने कहा आ जाओ।  लेकिन उस दिन भी उसके पापा आ गए उसे लेने और वो नही आ सकी। मैने कहा कोई नही फिर कभी आ जाना।

Friendship Story / Sad friendship story in Hindi/English  – Dosti ka break-up 💔 

लेकिन, उस शाम मैं सो नहीं पा रही थी। ये बात और थी की दोस्ती नहीं तोड़ना चाहती थी मैं पर एक ऐसी दोस्ती रख कर भी क्या करती मैं जो ऑलरेडी टूट गया था, जिसमे दरारें आ चुकी थी।

इस सच को चाह कर भी मैं छिपा नहीं सकती थी। और फिर बहुत सोचने के बाद मैने ये डिसाइड कर लिया की  नही ऐसी दोस्ती तो मैंने भगवान से कभी नही मांगी थी और ना ही ऐसी दोस्ती रख कर वो खुशी महसूस कर पाऊंगी।

तो इसका टूट जाना ही अच्छा है। और फिर मैने एक बड़ा सा मैसेज लिखा व्हाट्स ऐप पे उसे – देख मोटी हमारे बीच अच्छी दोस्ती थी पर अब पहले जैसा नहीं है कुछ भी तो इसको निभाने से अच्छा खत्म कर देते है।

तेरे लिए प्यार आज भी है पर इज्जत नहीं। मैं तो जो भी बोलती हूं मुंह पर बोलती हूं तो अब सब खत्म।

उसको ये बात शायद अच्छा नही लगा। और वो बहुत सवाल किए जा रही थी। पर मैं एक भी जवाब नही दी। मैने डिसाइड कर लिया था की सौ जूठे रिश्ते से अच्छा एक सच हो जिसके साथ मैं रहूं।

वो कितनी बाते ऐसी बोली जा रही थी जो मैने जब पढ़ा तो लगा की आज तक दोस्ती मैने निभाई ही क्यों। उसने उस दिन बोला की उसने मुझे और मेरी दोस्ती को कभी जायदा तवाज़ो नही दिया था।

और ये बात मुझे मेरे फैसले पे ठणे रहने की वजह दे दिया।

आज हम एक दूसरे से बात नहीं करते। ना ही एक दूसरे की बात करते है। अलग अलग जिंदगी है हमारी। पर मैं खुश हूं की मैने एक ऐसे रिश्ते से निकलने का फैसला किया।

आज तक मैने कभी किसी रिश्ते को नहीं छोड़ा। पर इस फैसले पर मुझे नाज है क्योंकि मैंने अपने बारे में कुछ अच्छा सोचा।Friendship Story / Sad friendship story in Hindi/English  – Dosti ka break-up 💔 

मॉरल इस कहानी के :-

1. कभी भी किसी भी रिश्ते में दब कर या सिर्फ उस वजह के लिए नही रहना चाहिए क्योंकि आपको वो रिश्ता चाहिए। दोनो की मर्जी बहुत जरूरी है।https://www.storyobsession.com/2021/02/blog-post_23.html

2.  रिश्ते को पहले अच्छे से पहचान लो की वो आपके प्यार और विश्वास के लायक है या नही। ताकि बाद में पछताना न पड़े।

अगर आपको ये मेरी कहानी अच्छी लगी या कुछ भी अच्छा लगा हो तो प्लीज शेयर करे और कमेंट के बताए क्या छह लगा आपको।

मिलते है अगली कहानी में तब तक खुश रहिए, आबाद रहिए।

 

Friendship Story / Sad friendship story in Hindi/English  – Dosti ka break-up 💔 

 

 

Leave a Comment